Kalvari – India’s First Conventional Submarine in 16 years

Kalvari Submarineरडार से बच निकलने में सक्षम पहली स्वदेश निर्मित स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी कलवरी रविवार को समुद्री परीक्षण के लिए मुंबई हार्बर से रवाना हुई है। वहीं इसके लिए भारी वजन वाले टॉरपीडो को खरीदने की योजना वीवीआईपी हेलीकॉप्टर सौदे के घोटाले के कारण अटक गयी है। 

कलवरी भारत की उन छह स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बियों में पहली है जिनका निर्माण परियोजना 75 के तहत किया जा रहा है। इस परियोजना में काफी देरी हुई है। मझगांव डॉक लिमिटेड :एमडीएल: फ्रांसीसी कंपनी डीसीएनएस के सहयोग से पनडुब्बियों का निर्माण कर रही है। अक्तूबर 2015 में कलवरी को समुद्र में उतारा गया था।

नौसेना के एक अधिकारी ने कहा कि कलवरी का समुद्री परीक्षण रविवार को शुरू हो गया है। यह हम सब के लिए गौरवपूर्ण क्षण है। हालांकि पनडुब्बी के लिहाज से भारी वजन वाले टॉरपीडो खरीदने की योजना रक्षा मंत्रालय में अटकी है। नौसेना भी राष्ट्रीय सुरक्षा की जरूरतों का हवाला देते हुए इसके लिए जोर दे रही है।  

फिनमेक्कानिका की एक कंपनी ‘डब्ल्यूएएसएस इटली’ परियोजना 75 की पनडुब्बियों के लिए टॉरपीडो की खरीद में सफल बोली लगाने वाली कंपनी के तौर पर सामने आई थी। बाद में समूह की वीवीआईपी हेलीकॉप्टर मामले में कथित संलिप्तता के चलते जुलाई 2014 में खरीद पर रोक लगा दी गयी।

 नौसेना प्रमुख एडमिरल आर के धवन ने भारी वजन वाले टॉरपीडो हासिल करने के महत्व पर जोर देते हुए कहा था कि रक्षा मंत्रालय इस पर अंतिम निर्णय लेगा। भारत स्कॉर्पीन श्रेणी की पहली छह पनडुब्बियां नौसेना को मिलने के बाद ऐसी दो और पनडुब्बियों को प्राप्त करने की प्रक्रिया शुरू कर सकता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s