#JNU v/s #NIT – War of Patriotism

” देशभक्ति बनाम देशद्रोह की बहस “

अभी कुछ महीने ही बीते थे JNU विवाद की जलती आग को , तो एक बार फिर श्रीनगर के NIT ने इस विवाद में घी डालने का काम कर दिया … आलम यह हुआ की इसबार वो सब देशभक्त नेता , टीवी चैनल , विद्वान लेखक जिन्होंने भारत में असहिष्णुता के चलते अपने अवार्ड वापस कर दिए थे … वह सब आज इस घटना पर मौन साधे बेठे हैं |

#JNU के विवाद से तो आप वाकिफ होंगे …क्योंकि वो मुद्दे को पूरी मीडिया ने बहुत बड़ा चढ़ा कर प्रसारित किया …मीडिया का एक हिस्सा जहा उन छात्रों को देशद्रोह और अफजल प्रेमी गैंग बताने में लगा वाही दूसरी तरफ मीडिया का एक हिस्से ने तो अपनी चैनल की स्क्रीन ही काली कर दी और आजकल की झुठी पत्रकारिता के लिए पश्चताप करने लगे .. लेकिन उन्ही चैनल ने उन छात्रों को जिन्होंने भारत विरोधी नारे लगाये थे , उनके भाषणों को शान बाण से दिखाया …जेल से निकलने के बाद वाले भाषणों को दर्शको तक LIVE पहुँचाया ..जेसे वो जेल से नहीं ..सीमा पर दुश्मनों को मार गिरा कर आये थे |

खेर छोड़ो , अब ये सब चैनल और नेता अब #NIT में हुए छात्रों की झड़प वाले  विवाद से कन्नी काटते हैं … NIT में वेस्ट इंडीज ने जब भारत को क्रिकेट के खेल में हाराया …उसके बाद भारत की हार का कश्मीरी छात्रों ने जश्न बनाया था |

जिसे देख गेर कश्मीरी छात्रों ने वहा भारत माता की जय बोलना चालू कर दिया और भारत के झंडे दिखा कर प्रदर्शन करने लगे … तभी दोनों छात्रों घुटो में झड़प हो गई …और बात यहाँ तक आ गई की ..पुलिस को कैंपस में घुसना पड़ा | लेकिन पुलिस ने भारत का झंडा हाथ में लिए हुए बच्चो पर  इस हालत तक लाठी चलाई की अब फोटो देखने से भी रूह काप जाती हैं .. !

 

अब सवाल यह उठता हैं की क्या गेर कश्मीरी छात्र अपने आप को वहा केसे सुरक्षित समजे जब वहा की पुलिस ही अपने नेतिक जिम्मेदारी नहीं निभा कर , देश विरोधी को हीरो मानते हैं और जबकि तिरंगा फ़ैलाने वाले  को लाठी से प्रहार करते हैं |

सवाल ये भी उठता हैं की JNU के कैंपस में भारत की बरबादी के नारे लगाने वालो को पुलिस कैंपस के अन्दर  जाकर पकड़ने की हिम्मत भी नहीं कर री थी , और इधर #NIT में भारत माता की जाय बोलने वालो को पुलिस ने कैंपस में अन्दर घुस कर पिटा जबकि देश विरोधी छात्रों को हाथ भी नहीं लगाया |

यह सब घटनाए देश में एक देशभक्ति बनाम देशद्रोही की आग पैदा कर रहे हैं …इसके लिए नेता भी उतने ही जिम्मेदार है …चाहे वो ओवैसी हो जो कहते हैं की भारत माता की जय नहीं बोलूँगा .. और चाहे महाराष्ट्र के CM देवेन्द्र फद्न्विस के एक बयान जिसमे उन्होंने कहा जो भारत माता की जय नहीं बोलता हैं ….उसे देश से बहार जाना चाहिए …और इन सबके बाद बाबा रामदेव का विवादित बयान जिसमे भारत माता की जय ना बोलने पर सर काटने का बयान दिया …

चाहे वो बीजेपी हो या कांग्रेस या कोई भी पार्टी ..सब आज देश में फ़ैल रही आराजकता के जिम्मेदार हैं … सर काटने की बात करने वाले बाबा की बात सुन कर कोन कहेगा की भारत एक सहनशील देश हैं ?

  • Sourabh Prajapat ( Twitter @sourabhsayss ) …7.20am (8.4.2016)
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s